बिहार में चक्रवात यास के कारण कुल सात लोगों की मौत हो गई जबकि चक्रवाती तूफान के मद्देनजर कम दबाव का क्षेत्र बनने से शुक्रवार को राज्य के अधिकांश हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश हुई. पटना, दरभंगा, बांका, मुंगेर, बेगूसराय, गया और भोजपुर में चक्रवात से एक-एक व्यक्ति की मौत हो गई।

पीड़ित परिवार को मिलेंगे चार लाख रुपए

एक आधिकारिक बयान में यहां कहा गया कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चक्रवात यास के कारण व्यक्तियों की मौतों पर दुख जताया है। नीतीश कुमार ने मरने वालों के परिवारों को चार-चार लाख रुपये की अनुग्रह राशि का तत्काल भुगतान करने का आदेश दिया है।

मुख्यमंत्री ने साथ ही यह भी निर्देश दिया कि बेगूसराय में चक्रवात से घायल चार व्यक्तियों और गया और बांका में एक-एक घायल को उचित चिकित्सा प्रदान की जाए।

नीतीश कुमार ने बिहार के लोगों से ‘‘मौसम विभाग की ओर से जारी चेतावनियों के अनुसार सभी सावधानी बरतने’’ की अपील की और आश्वासन दिया कि बिजली और पानी की निर्बाध आपूर्ति तथा वाहनों के आवागमन का सुचारू संचालन सुनिश्चित करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

बिहार के जिलों में हुई 200 मिमी तक बारिश

ओडिशा और पश्चिम बंगाल में बुधवार को दस्तक देने के बाद 26 मई की मध्यरात्रि से भयंकर चक्रवाती तूफान यास ने झारखंड और बिहार को प्रभावित किया।

चक्रवात के कारण राज्य के अधिकांश क्षेत्रों में मध्यम से भारी वर्षा हुई। यहां मौसम कार्यालय के अधिकारी एस के मंडल के अनुसार, कटिहार और सारण जैसे उत्तर बिहार के जिलों में 200 मिमी के करीब या उससे अधिक बारिश हुई।

पटना जिले में तेज हवाएं चलने के साथ ही यहां कल से 90 मिमी से अधिक बारिश हुई है, जिसके परिणामस्वरूप राजधानी के मुख्य इलाकों सहित कई हिस्सों में भारी जल-जमाव हो गया। विपक्षी राजद ने एक बयान जारी करके नीतीश कुमार सरकार पर भारी बारिश के मद्देनजर शहर को ‘‘डूबने’’ देने का आरोप लगाया।

खराब मौसम के कारण बृहस्पतिवार शाम को बाधित हुआ हवाई यातायात सुबह फिर से शुरू हो गया। मौसम विभाग ने शनिवार को भी उत्तर बिहार के अधिकांश हिस्सों में हल्की से मध्यम भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here