विश्व पर्यावरण दिवस 2021: पर्यावरण इस पृथ्वी पर सभी जीवित प्राणी का आधारभूत हैं। और यह भी जान लें कि पर्यावरण शुुुद्ध रहेगा तो इस धरती पर मानव हस्ती सुखमय रहेगा।

इसलिए तो पूरी दुनिया पर्यावरण को बचाने के लिए नये नये तकनीक का इस्तेमाल कर रहा है। फिर भी हम सब पर्यावरण को अनदेखा कर रहे हैं।

हम मनुष्य के सफल जीवन के लिए प्राकृतिक व संस्कृति का संरक्षण बहुत जरूरी है यह जितने चरित्र होंगे मानव अस्तित्व पर खतरा भी कम होगा।

यह भी पढ़े : हिंदी पत्रकारिता दिवस 2021: बिहार में हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत किसने और कब किया ?

विश्व पर्यावरण दिवस के बारें में

विश्व पर्यावरण दिवस की शुरुआत सन् 1972 में संयुक्त राष्ट्र ने पर्यावरण के देख-रेख और सुरक्षा के दृष्टिकोण से किया था।

इसे हर साल 5 जून को मनाया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर हर साल विशेष थीम को को लागू किया जाता है।

पर्यावरण को प्रदूषण से बचाने के लिए जगह-जगह कई तरह के योजनाओं का शुरुआत किया गया हैं । आज के समय में पर्यावरण की सुरक्षा भी हमारी चिंता का विषय है।

बेमौसम बरसात, तापमान में बदलाव, महामारी की चाल ने इस धरती पर रहने वाले सभी जीवित प्राणियों  को सदमें में डाल दिया है।

भारत में पर्यावरण के बचाव हेतु बहुत सारी योजनाओं का शुरुआत किया गया है। जैसे:- नमामि गंगे योजना, स्वच्छ भारत अभियान, ग्रीन कौशल विकास योजना इत्यादि।

भारतीय संविधान के भाग-4क अनुच्छेद 51 में पर्यावरण के सुरक्षा और संवर्धन हेतु कानून भी बनाया गया है। हम अपने समाज में ज्यादा से ज्यादा वृक्षारोपण करके पर्यावरण की रक्षा कर सकते है।

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम क्या है 

विश्व पर्यावरण दिवस 2021 की थीम ‘पारिस्थितिकी तंत्र की बहाली (Ecosystem Restoration) है।

 

बिहार में पर्यावरण का छोटा सा सारांश

प्रकृति के प्रति हमारे उदारता जगजाहिर है। 2012 में बिहार में हरियाली मिशन की शुरुआत  के तहत वृक्षारोपण कार्यक्रम चलाया गया इसके बावजूद अभी भी राज्य का हरित आवरण 15 फीसद हुआ है जो राष्ट्रीय औसत से तकरीबन 23 फीसद से कम है।

हालांकि स्वच्छ पर्यावरण हेतु कुल भूमि के 33 फीसद वनाच्छादित होने चाहिए।

यह भी पढ़े: जून महीने का विवरण – हिन्दी सफ़र

2017 के अनुसार  झारखंड का वनाच्छादित भूभाग 29.55 फीसद था बिहार सरकार का लक्ष्य इसे 19 फीसद करने का है जो स्वच्छ पर्यावरण को स्थापित मानकों के आधा है।

क्षेत्रफल के मुताबिक हमारी आबादी बहुत अधिक है और वनों के भू-भाग काफी सीमित है ऐसी सूरत में खाली पड़े ऐसी जगह पर पौधारोपण को तरजीह देने की आवश्यकता है।

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर देश के बड़े बड़े हस्तियों ने पर्यावरण संरक्षण के लिए ट्विटर पर संदेश दिए

भारत के गृहमंत्री अमित शाह का विश्व पर्यावरण दिवस पर ट्वीट

 

विश्व पर्यावरण दिवस पर लोक सभा स्पीकर ओम बिरला का ट्विट 

 

उत्तरप्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का विश्व पर्यावरण दिवस पर ट्विट 

यह भी पढ़े: विश्व तंबाकू निषेध दिवस हर साल कब और क्यों मनाया जाता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here