आज बिहार विधानसभा चुनाव 2020 का एक्जिट पोल आने वाला है तो क्या इस बार का ताज बिहार के गरीबों के मसीहा लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव के नाम सजेगी या सुशासन बाबू नीतीश कुमार के नाम।

हमारा बिहार जिसे राजनीतिज्ञयों का राज्य कहा जाता हैं जहाँ की हर गलियों में किसी न किसी पार्टी के एक दो देशी प्रवक्ता गुटुर गूँ करते मिल ही जाएँगे। चाहे वो पान की दुकान हो या चाय की दुकान।

तो आइयें जानते हैं बिहार विधानसभा    चुनाव 2020 की साज नीतीश कुमार या तेजस्वी यादव किसके माथे पर सजेगी ताज

एक तरफ़ सुशासन बाबू यानी नीतीश कुमार जो पिछ्ले 15 वर्षों से लगातार बिहार के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यरत हैं। जिनका चुनाव चिन्ह तीर छाप हैं। और ये JDU के अध्यक्ष भी हैं।

 

बिहार चुनाव 2020

 

 

उनके शासन-काल में बिहार के रूप रेखा में बहुत बदलाव देखने को मिला है। जब नीतीश कुमार पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री 2005 में बने तो उससे पहले बिहार की एक अलग ही दशा थी।

चारों तरफ़ बाहुबलियों का खौंफ था। जगह-जगह लूटमार चोरी डकैती होती रहती थी।

आयें दिन कोई ना कोई घटना होते रहता था। न बिजली का साधन था और ना ही रोड का विकास। न जनता का कोई सुनने वाला था और न ही उनके मदद का कोई जुगार।

ऐसे में नीतीश कुमार के शासन में इन सब चीजों से कहीं न कहीं जनता को आराम मिला हैं। अब तो हमलोग बेबाक अंदाज में बोलते हैं लिखते हैं।

पहले तो बाहुबलियों के डर से कोई सामने खड़ा नही होता था आज वहीं हमलोग सिनातान खड़े रहते हैं।

दुसरी तरफ़ हैं एक ऐसी पार्टी जिसका जीर्णोद्धार एक ऐसे व्यक्ति के नाम जाती हैं जिसे बिहार में लोग गरीबों के मसीहा के नाम से नाम जानते हैं। जिनका नाम हैं लालू प्रसाद यादव। जिनका चुनाव चिन्ह लालटेन छाप हैं।

 

बिहार विधानसभा चुनाव 2020

 

 

जब बिहार की राजनीति अंधेरे में थी तब लालू प्रसाद यादव यादव जी ने अपने लालटेन के माध्यम से उस अंधेरे को खत्म किया और बिहार के लोगों के दिलों में अपना छाप छोरा जो अभी तक देखने को मिलता हैं।

लालू प्रसाद यादव बिहार के पहले मुख्यमंत्री 1990 में बने।उसके बाद लगातार उनकी सरकार 2005 तक बनी रही।

लेकिन इनके शासन काल में बाहुबलियों का खौंफ कुछ ज्यादा ही देखने को मिला इसलिए आज भी लोग इनकी सरकार के  बनने से डरते हैं।

लेकिन समय बदल चुका है। बहुत सारा बदलाव देखने को मिला हैं। लालू प्रसाद यादव के बेटे तेजस्वी यादव जो इस बार RJD के तरफ़ से मुख्यमंत्री के उम्मीदवार हैं उन्होने जनता से वादा भी किया हैं विकास का, नौकरी देने का।

तो ऐसे में क्या जनता इस विधान सभा चुनाव में इनका साथ देगी? ये तो 10 तारीख को ही पता चलेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here