Drugs(ड्रग्स)
 

Drugs(ड्रग्स) क्या है?

कोई भी ऐसी वस्तु जिसे हमारा मस्तिष्क मांग करता हैं किन्तु उससे शरीर को नुकसान हो नशा कहलाता है।

 

मानसिक स्थिति को उत्तेजित करने वाले रसायन जो नींद नशा या विभ्रम के हालत में शरीर को ले जाते हैं वो Drugs(ड्रग्स) कहलाते हैं।

 

भारत में हर सातवें सेकेण्ड में एक व्यक्ति की मौत तम्बाकू या ड्रग्स का सेवन करने से होती हैं। अपराध रिकार्ड ब्यूरो के अनुसार बड़े छोटे अपराधों, बलात्कार, हत्या, लूट, डकैती, राहजनी, आदि वारदातों में लगभग 73.5% मामले ड्रग्स के सेवन से जुड़े होते हैं।

Drugs(ड्रग्स) की आदत क्यों लगती हैं

  • माता-पिता की अत्यधिक व्यस्तता बच्चें को अकेलापन देती हैं।माता पिता के प्यार से वंचित बच्चें ड्रग्स के सेवन की ओर बढ़ते हैं।
 
  • परिवार में कलह का वातावरण भी उन्हें एकाकी बनाता है और यह अकेलापन उन्हें ड्रग्स की ओर ले जाता है।

 

  • मानसिक रूप से परेशान व्यक्ति ड्रग्स का सेवन कर इसे आदत बना लेता है। यह मानसिक परेशानी पारिवारिक,सामाजिक और आर्थिक हो सकती है।

 

  • बेरोजगारी ड्रग्स की ओर उन्मुख होने का एक कारण है। खाली बैठा व्यक्ति हिनभावना और ऊब का शिकार होकर ड्रग्स को अपनाता है।

 

  • शारीरिक या पढ़ाई में कमजोरी व्यक्ति के अंदर हीन भावना को भरती है और इसे दूर करने के लिए वह ड्रग्स का सेवन करने लगता है।

 

  • जो व्यक्ति तनाव,अवसाद और मानसिक बिमारियों से पीड़ित है, वह ड्रग्स के प्रति उन्मुख हो जाता है।

 

  • यह एक सामाजिक सोच है की नशा तनाव को दूर करता है। ड्रग्स का उपयोग कर शारीरिक रूप से मजबूत हो सकते हैं और सफलता मिल सकती है, यह भ्रम है।

 

  • पुरानी यादों को भुलाने के लिए युवा ड्रग्स की राह पर चल पड़ते हैं।

Drugs(ड्रग्स) पर पूर्ण विराम कैसे ?

 

खुद पर विश्वास ड्रग्स को ना कहें 

 

Drugs(ड्रग्स) के खिलाफ पहला कदम है खुद को इसे ना कहना। अपने परिवार, पड़ोस, शिक्षण संस्थानों और सार्वजनिक स्थानों पर और अपने दोस्तों के साथ मिलकर ड्रग्स का सेवन ना करने और ना करने देने का संकल्प लें।

 

Drugs(ड्रग्स) के बुरे प्रभाव से अवगत करायें

 

Drugs(ड्रग्स) का उपयोग करने वाले बच्चों, युवाओं की पहचान कर उन्हे इस जहर से बाहर निकलने के लिए प्रेरित करें। उनका अकेलापन दूर करने के लिए उनके परिवार और दोस्तों को उनके करीब लाने में मदद करें। उनके अंदर आत्मविश्वास लाने और हीन भावना को दूर करने की कोशिश करें।

 

ड्रग्स की खरीद बिक्री पर नजर 

 

Drugs(ड्रग्स) की खरीद-बिक्री दोनो कानूनी अपराध है और किसी भी रूप में इसकी सामाजिक मान्यता भी नही है। परिवार पड़ोस शिक्षण संस्थानों और सार्वजनिक स्थानों पर ड्रग्स की खरीद-बिक्री होने की स्थिति में तुरंत पुलिस को सूचित करें।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here