बारिश ग्रस्त शहरी जीवन

बारिश ग्रस्त शहरी जीवन क्या है ?

हमलोग जानते है कि भारत में अभी मानसून का दौर है चारों तरफ भारी बारिश की सम्भावना रहती है। शहरों में भारी बारिश की वजह से जिंदगी अस्त व्यस्त हो जाती हैं उसे ही हम बारिश ग्रस्त शहरी जीवन कहते है।

बारिश ग्रस्त शहरी जीवन के बीच अस्त व्यस्त जीवन बचाव हेतु कुछ अपनी राय जो आपलोगों को इससे लड़ने में कारगर साबित होगा

जैसा की आप जानते हैं कि भारत में अभी मानसून का दौर है और इसके साथ बारिश के  मौसम की शुरूआत हो चुकी है। हर जगह जगह भारी मात्रा में बारिश होने की संभावना रहती है जो हमारी जीवन पद्धति को अस्त व्यस्त कर देता है।
एक तरफ जहाँ हमारें ग्रामीण क्षेत्र में इसका फ़ायदा देखने को मिलता है खेती गिरहस्ती में तो दुसरी तरफ शहरी क्षेत्र को इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है।
लेकिन ऐसा नही है की ये मानसून एक बार ही आता है। ये बारिश का मौसम एक बार ही आता है इससे हमलोगों को हर साल निपटना है। तो ऐसे हालात के होने से पहले हमें हर संभव वो काम करना है जिससे हमारी क्षति होने के आसार कम हो।

तो आइये जानते है कुछ जरूरी बातें जो ऐसे हालात से निपटने में मददगार साबित होगा

1. हमें बरसात शुरू होने से पहले ही 2-3 महिने का खाने-पीने की सामाग्री की व्यवस्था कर लेनी चाहिये जैसा की पहले की दौड़ में हमारे पूर्वज करते थे। ताकि हमें भुखमड़ी का सामना ना करना पड़े। जैसे:- चावल,दाल,आटा,तेल,मसाला इत्यादि।

2. खाना बनाने के लिए गैस की व्यवस्था या लकड़ी की व्यवस्था करें।

3. बच्चों के जीवन यापन के लिए दूध की व्यवस्था करें।

4. जैसा की हमलोग को पता है की आज की जो जीवन प्रणाली है वो दवा पर निर्भर है तो हमें जरूरी दवा को अपने पास रख लेना चाहिये ताकि आपात स्थिति में ये हमारें जीवन को सुरक्षित रखें। जैसे:- सर्दी,बुखार,खांसी,दर्द की दवा इत्यादि।

5. इस मौसम में पीने की पानी की बहुत किल्लत होती है तो क्लोरीन युक्त साफ पीने की पानी की व्यवस्था करनी चाहिये।

6. हमें साबून, फिनाईल, डिटौल, आदि की व्यवस्था करनी चाहिये infection से बचने के लिए। ताकि दुकान बन्दी का सामना ना करना पड़े।

7. मोबाइल जो हमारे शरीर का अभिन्न अंग की तरह है जो आज के दौर में हमें अपनो से जोड़े रखता है। इसे हमेशा full charge करके रखें। ताकि आपात स्थिति में अपनो का खबर मिल सकें।

8. घरों को हमेशा साफ सुथरे ढ़ंग से रखें। कुड़े-कचड़े को घर में लगने ना दें।

9. जलजमाव की स्थिति में ब्लिचिंग पाउडर का छिड़काव करें ताकि मच्छरों से होने वाली बिमारियों से बचा जा सकें। जैसे:- मलेरिया, डेंगू इत्यादि से।

10. स्लम बस्ती वाले लोंगो को अपने आसपास के स्कूल या आश्रय स्थल को पहले ही चिह्नित करना चाहिये ताकि आपात स्थिति में इधर-उधर भटकना ना पड़े।

11. हमेशा अपने साथ टॉर्च, दिया, सलाई, मोमबत्ती अपने पास रखें।

12. आज जबकि कोरोना वायरस का कहर सब जगह है तो ऐसे हालात में मास्क,सेनेटाईजर आदि को हमेशा अपने साथ रखें।

कृप्या आपलोग इन सभी महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखते हुए इस योजना पे काम करें और अपने और अपने लोगों की हिफाजत करें ताकि बाद में किसी चीज का पश्चाताप ना हो।

           “”आपदा नहीं हो भारी यदि पूरी हो तैयारी””

🇮🇳🇮🇳 जय हिन्द जय भारत 🇮🇳🇮🇳

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here