माहे रमजान
 
 
माहे रमजान इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार 9वाँ नंबर पर आता हैं. इस्लाम धर्म में रमजान महीने का बहुत बड़ा महत्व हैं. 
 
 
इसे रहमत वाला महीना भी कहा जाता है. रमजान महीने का एक अलग ही मर्तबा है. इस महीने बाजारों में एक अलग ही रौनक दिखाई देती हैं. 

पूरे दुनिया के मुसलमान इस महीने पूरे दिलों ऐतबार से रोजा रखते हैं और अल्लाह की इबादत करते है. तरावीह की नमाज के साथ कुरान मजीद की तिलावत भी करते है.

इस साल यानि 2021 भारत में रमजान महीना 14 अप्रैल से शुरु हो रहा है जो पूरे एक महीने तक चलेगा. इस दौरान हम पूरे दिन रोजा बिना खाएं-पिएं रखते है और शाम में इफ्तार करके रोजा से फ़ारीग होते है.

सभी मुस्लिम भाई यह पूरा महीना एक त्योहार की तरह मनाते है जो पूरे दुनिया में देखने को मिलता है.

21 दिन के बाद चलने वाले शबे-कदर की रात में सभी मुसलमान भाई एक साथ बैठकर अल्लाह की इबादत करते हैं और दुनिया की सलामती के लिए दुआ मांगते हैं.

इस महीने में सभी मुस्लिम भाई गरीबों एवं जरुरतमंदो को मदद के तौर पे जकात, फितरा, सदका, खैैैरात आदि बाँटते है. ताकि कोई भी गरीब भूखा ना रहेें.
 
 

पूरे महीने रोज़ा रखने के बाद अंतिम दिन चांद देखने के बाद पहली शव्वाल के महीना मे ईद-उल-फ़ित्र का पर्व मनाते है.

 

माहे रमजान में हमें अपने सेहत का ख्याल रखते हुए कुछ अहम बातों को ध्यान में रखना जरूरी हैं. तो आइयें जानतें है 

 

 

 

 

 

  • रमजान में रोजे के दौरान हमें संतुलित आहार लेना चाहिए.
  • रमजान में सेहरी एवं इफ्तार के समय ऐसे चीजों का सेवन करे जिससे दिन के समय ऐसिडिटी ना हो. जैसे: खजूर, दुध, चावल या कोई भी अनाज, जूस, हरि सब्जी इत्यादि.
 
  • रमजान में हमें फाइबर, पोटैशियम, कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन लेना चाहिए ताकि हमारे शरीर का इम्यून सिस्टम मजबूत रहे और शरीर स्वस्थ रहें.
  • रमजान में इफ्तार के समय ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिये. थोड़ा रूक-रूक कर पानी पीना चाहिए.
  • मजान में इफ्तार के समय बेहतर होगा कि आप निंबू का शर्बत, रुहआबजा आदि ले.

 

  • रमजान में जो लोग रोज़ा रखते है धूप के समय कोशिश करें कि घर पर ही रहें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here